स्नातकोत्तर साहित्य विभाग

 

 

शिक्षक

(क)

डॉ0 मीना कुमारी

प्राचार्य सह विभागाध्यक्ष

(06272247346, 9570371086)

(ख)

डॉ0 देवनारायण झा

प्राचार्य सह कुलपती

(06272256508, 8809787946)     

(ग)

डॉ0 विश्राम तिवारी

उपाचार्य

मो09431692035

(घ)

डॉ0 श्रवण कुमार चौधरी

उपाचार्य,

(06272220769, 9430849752)

(ङ)

डॉ0 रेणुका सिन्हा,

उपाचार्य

(मो0 9470426766)

 

पुस्तकालयीय विवरण

            (क) पुस्तक संख्या                                   5969

            (ख) पत्रिका संख्या                                     62

            (ग) शोधप्रबन्ध संख्या                                100

            (घ) शोधविषय में पंजीकृत छात्र                    27

 

छात्र विवरणी    201314.

 

नामांकित

परीक्षा में प्रविष्ट

उत्तीर्ण 

आचार्य प्रथम खण्ड

115

109

92

आचार्य द्वितीय खण्ड      

121

107

101

                             

 शोध  गतिविधि

विभागीय शिक्षक    

पंजीकृत गवेषक

उपाधिप्राप्त

विघावारिधि/ विघावाचस्पति

डॉ0 मीना कुमारी, प्राचार्या

विघावाचस्पति

4

1

 

डॉ0 देव नारायण झा, प्राचार्य 

विघावाचस्पति

10

2

 

डॉ0 विश्राम तिवारी, उपाचार्य 

विघावाचस्पति

8+1

 

1

डॉ0 श्रवण कुमार चौधरी, उपाचार्य विघावारिधि

7

1

 

डॉ0 रेणुका सिन्हा, उपाचार्य  विघावारिधि

6

1

 

 

प्रमुख गतिविधि (विभागीय संचालित कार्यक्रम)

 

(क) रिमेडियल कोचिंग कार्यक्रम (वि. विघालय अनुदान आयोग की वित्तीय सहायता से) का संचालन । 

 

(ख) विभागीय प्राचार्यडॉ. देवनारायण झा जी को माननीय कुलपति पद (का.सिं.द.सं.विश्वविघालय, दरभंगा)       दिनांक 2.2.2014 ई. ।

 

(ग) विश्वविघालय अनुदानआयोग की वित्त्तीय सहायता के द्वारा दिनांक2.9.2014 एवं 3.9.2014 राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन । संगोष्ठी का विषयट्टट्टकाव्यशास्त्रीयसम्प्रदायाः । इस संगोष्ठी में लगभग 100 प्रतिभागियों ने भागग्रहण किया एवं आलेखवाचन किये गये ।

 

(घ) विश्वविघालय अनुदान आयोग की वित्तीयसहायता से दिनांक 9.10.2014 से 18.10.2014 तक दशदिवसीय कार्यशाला का आयोजन विभाग के अन्तर्गत किया गया, जिसमें लगभग तीन दर्जन प्रतिभागियों द्वारा दस दिनों तक ट्टट्टऔचित्यविचारचर्चा नामक ग्रन्थ के स्वाध्याय एवं विमर्श सत्र में भागग्रहण किया गया । इस राष्ट्रिय कार्यशाला में प्रदेश के बाहर से भी ख्याति प्राप्त विद्वानों की उपस्थिति हुई।

 

(ङ)    20.4.2014 को माननीय कुलपति महोदय के आदेश के आलोक में स्नातकोत्तरसाहित्यविभाग अपने पूर्ववर्त्ती स्नातकोत्तर भवन से स्थानान्तरित होकर नये भवन में (जिसके आधेभाग में शिक्षाशास्त्र विभाग चलता है) व्यवस्थित हुआ ।

 

(च)   श्री सन्तोष कुमार पासवान नामक विभागीय छात्र को राजीव गांधी शोध छात्रवृत्ति (आर.जी.एफ.) प्राप्त हुई एवं तीन विभागीय छात्रों ने नेट परीक्षा में उत्तीर्णता पायी ।

 

(छ)   20140 से आचार्य में सेमेस्टर प्रणाली लागू की गयी, अर्थात् इस वर्ष से नामांकित छात्रों की परीक्षाएँ प्रति छः माह के बाद ली जायेगी और चाराें सेमेस्टर में (कुल दो वर्ष) उत्तीर्णत्ता के बाद छात्र आचार्योपाधि प्राप्त कर सकेंगे ।

 

(ज)   इसी वर्ष से विभाग में नयी शोधविनियमावली नये रूप में प्राप्त करायी गयी है ।    

 

शिक्षकों की वैयक्तिक उपलब्धियाँ

 

(क)   डॉ0 मीना कुमारी, प्राचार्या एवं विभागाध्यक्षा । 

 

इनके निर्देशन में डॉ. राम कुमार शर्मा को डि. लिट्. की उपाधि प्राप्त । इनकी अध्यक्षता में दिनांक  2.9.2014 एवं 3.9.2014 को राष्ट्रियसंगोष्ठी एवं 9.10.2014 से 18.10.2014 तक राष्ट्रीयकार्यशाला का सफल समायोजन । इसके पूर्व 24 एवं 25 फरवरी को आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रिय संगोष्ठी एवं 28.03.2014  को एक दिवसीय संगोष्ठी में सत्रसंयोजिका के रूप में सत्र का सफल संचालन ।

 

(ख)   डॉ0 देवनारायण झा, प्राचार्य एवं पूर्व विभागाध्यक्ष

 

दिनांक 2.2.2014 को इन्होंने माननीय कुलपति के पद पर योगदान किया । इसके पूर्व इन्होंने रिमेडियल कोचिंग का निर्देशन एवं वार्डेन, विशेष पुस्तकालय प्रभारी आदि के कर्त्तव्यों का निर्वहन किया ।

 

(ग)    डॉ. विश्राम तिवारी, एसोसिएट प्रोफेसर (उपाचार्य)

 

1.         24, 25 फरवरी 2014 को विश्वविघालय में आयोजित राष्ट्रिय द्विदिवसीय संगोष्ठी एवं 28.03.2014 को आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में प्रतिभागी के रूप में भागग्रहण एवं सत्रसंयोजक के रूप में एकएक संगोष्ठी  सत्र का सम्यक् संयोजन ।

 

2.         दिनांक 2.9.2014 एवं 3.9.2014 को विभाग द्वारा आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का सफल संयोजन कर लगभग 100 प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र वितरण ।

 

3.         दिनांक 9.10.2014 से 18.10.2014 तक विश्वविघालय अनुदान आयोग की वित्तीय सहायता से आयोजित दस दिवसीय कार्यशाला में कार्यक्रम संयोजक के रूप में सफल संचालन ।

 

4.         इस वर्ष की गवेषणा परिषद् द्वारा मेरे निर्देशन में विघावाचस्पति उपाधि हेतु पंजीयनार्थ (डॉ. रामानुज शर्मा) स्वीकृति

 

5.         राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, लखनऊ परिसर में दिनांक12.03.2014 से 14.03.2014 तक आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी  में विशेष आमन्त्रित प्रतिभागी के रूप में भागग्रहण एवं आलेखवाचन ।

 

6.         24 एवं 25 मार्च, 2014 को आदर्श संस्कृत महाविघालय, देवघर (राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली) द्वारा विशेष आमन्त्रण पर साहित्य व्याख्यान कार्यक्रम में दो विशेष व्याख्यान ।

 

व्याख्यान का विषय (क) पण्डितराजमते काव्यकारणम् (ख)आनन्दवर्धानाचार्यमतेध्वनिलक्षणविमर्शः

           

7.         विविध परीक्षाओं में पर्यवेक्षक के रूप में परीक्षा संचालन एवं विश्वविघालय आदेश के आलोक में कई गोपनीय कार्यों का सम्यक् सम्पादन तथा कतिपय समिति में सदस्य ।

 

(घ)   डॉ0 श्रवण कुमार चौधरी, एसोसिएट प्रोफेसर (उपाचार्य)

                        छात्रावासों का वार्डेन तथा रिमेडियल कोचिंग के निदेशक .

                        शोधोपाधि प्राप्त गवेषक 1.

                        प्रकाशन 1, वेदविघासार भारतीयदर्शन, प्राच्यविघा विशेषांक विघापति

टाइम्स,  दरभंगा 1.1.2014

 

(ड.)   डॉ0 रेणुका सिन्हा, एसोसिएट प्रोफेसर (उपाचार्य)

            1.         विश्वविघालय अनुदान आयोग द्वारा प्रायोजित एवं का.सि.द.सं.विश्वविघालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी दिनांक 24 से 25 फरवरी 2014 में (सामाजिकसद्भावनायां संस्कृतास्यावदानम्) भागग्रहण एवं  लघुशोधनिबन्ध वाचन ।

           

2.         पुनः विश्वविघालय अनुदान द्वारा आयोजित एवं 28.03.2014 को कामेश्वरसिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविघालय, दरभंगा द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में शोधपत्र वाचन ।  (विषयविघा के विकास में विहार का योगदान)

           

3.         विहार दर्शन परिषद 36वॉ वार्षिक सम्मेलन 30, 31 मार्च 2014  ललित नारायण मिथिला विश्वविघालय, दरभंगा द्वारा आयोजित सम्मेलन के (मानवजीवन में संस्कारों का महत्त्व) एवं शोध पत्रवाचन एवं भागग्रहण।

           

4.         उपशास्त्री उत्तरपुस्तिका के अंकों का गणनकार्य 19.05.2014 से 27.05.2014 किया ।

           

5.         इनके निर्देशन के गवेषक अनिल विहारी का पीएच. डी उपाधिका परीक्षाफल प्रकाशित ।

                

6.         विश्वविघालय अनुदान आयोग द्वारा प्रायोजित एवं स्नाकोत्तर वेद विभाग द्वारा आयोजित दस दिवसीय कार्यशाला दिनांक 12.09.2014 से 21.09.2014 में भाग ग्रहण ।

7.         विश्वविघालय अनुदान आयोग द्वारा प्रयोजित एवं स्नातकोत्तर विभागीय द्वारा आयोजित दस दिवसीय कार्यशाला में दिनांक 9.10.2014 से 18.10.2014 तक सहसंयोजिका के रूप में कार्य किया ।

           

8.         विश्वविघालय अनुदान आयोग द्वारा प्रायोजित एवं स्नातकोत्तर साहित्य विभाग द्वारा आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में सत्र संयोजक के रूप में कार्य किया।  (दिनांक 2.9.2014. से 3.9.2014)

           

9.         महिला टार्क्स फोर्स की संयोजिका के रूप में कार्य संचालित (पत्रांक 5758 दिनांक 31.7.14 के आलोक में ।)

           

10.       एन.एस.एस. के कार्यक्रम पदाधिकारी के रूप में सेवारत (पत्रांक178 दिनोक16.3.2013 के आलोक में)

                        शोधगतिविधि विघावारिधि 9

                        शोधोपाधिप्राप्त 1

                        पुस्तक प्रकाशित (2012 में) 1

 

विभागीय कर्मचारी

 

            (1) श्री ब्रह्मदेव झा, (कार्यालय सहायक)      (2) श्रीमती सुधीरा झा (आदेशपाल)